भगवान शिव की शरण में जो भक्त जाता है उसकी रक्षा वह स्वयं करते हैं। भोलेनाथ सावन में अपने भक्तों पर जल्द प्रसन्न होते हैं। कहते हैं सावन के महीने में शिव से जो मांगो वह मिलता है। ज्योतिष शास्त्र में भगवान शिव की पूजा करने का विशेष महत्व होता है क्योंकि शिव मंत्रों के जाप से जातकों के जीवन में बुरे ग्रहों का प्रभाव कम हो जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार भगवान शिव 3 तीन राशियों पर अपनी विशेष कृपा रखते हैं। आइए जानते हैं कि सावन के पवित्र महीने में कौन सी तीन राशियां है जिस पर हमेशा भगवान शिव की कृपा रहती है।

मेष :
मेष राशि का स्वामी मंगल गृह हैं। भगवान भोलेनाथ को मेष राशि बहुत ही प्रिय होती है। मेष राशि के जातकों पर भगवान शंकर मेहरबान रहते हैं। मेष राशि वालों से शिव जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। ज्योतिष मान्यताओं के अनुसार मेष राशि के लोगों को शिव की अराधना करनी चाहिए। मेष राशि के जातकों को नियमित शिवलिंग पर जल अर्पित करना चाहिए। शिवलिंग पर जल अर्पित करने से शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

मकर :
अब बात करते हैं दूसरे नम्बर वाले राशि मकर की। मकर राशि के स्वामी शनि देव हैं। मकर राशि भी शिवजी की प्रिय राशियों में से एक है। इस राशि पर शनि और शिव दोनों की कृपा होती है। जब भी इस राशि के जातकों पर किसी प्रकार की विपदा आती है तो उस समय भगवान शिव आने वाली कठिनाइओं को कम कर देते हैं। इस राशि के जातकों के लिए शिव पूजा बहुत ही लाभकारी और शुभफलदायी मानी गई है।

मकर राशि वालों को शिवलिंग पर जल चढ़ाने के अलावा बेलपत्र भी अर्पित करना चाहिए और पूजा करते वक्त महामत्युंजय का जाप करना चाहिए। सावन में मकर राशि वालों को शिव की पूजा जरूर करनी चाहिए।

कुंभ :
कुंभ राशि के स्वामी शनि देव हैं। शनिदेव मंगल और कुम्भ दोनों राशियों के स्वामी माने जाते हैं। शनि की इस राशि पर भी शिव की कृपा हमेशा बरसती है। सावन के महीने में भी कुंभ राशि के जातकों को शिव आराधना करनी चाहिए। कुंभ राशि के जातकों के लिए सावन के महीने में “ऊं नम: शिवाय” का जाप सभी तरह के कष्टों को दूर करने के लिए शुभ रहता है। सावन के महीने में इस राशि के जातकों के लिए दान करना अच्छा रहेगा।