हर व्यक्ति की हथेली पर कई तरह के निशान और रेखाएं बनी हुई होती है। ये रेखाएं व्यक्ति के भविष्य के बारे में बहुत सारी चीजों की तरफ संकेत करती हैं। हथेली पर मुख्य रूप से भाग्यरेखा, जीवनरेखा, विवाह रेखा, संतान सुख की रेखा, मस्तिष्क और ह्रदय रेखा बनी हुई होती है। हस्तरेखा ज्योतिष शास्त्र में इन्हीं रेखाओं का अध्ययन करके व्यक्ति के जीवन में घट चुकी या भविष्य में घटने वाली घटनाओं के बारे में बताया जाता है। हथेली पर बनी तमाम रेखाओं को देखकर व्यक्ति के करियर, धन संपदा, व्यापार, विवाह और सेहत आदि के बारे में भविष्य वाणी की जाती है। आज हम हथेली पर बनी उन रेखाओं के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे पता चलता है कि व्यक्ति कितना भाग्यशाली है।

  • तर्जनी उंगली की ठीक नीचे वाले हिस्से को गुरु पर्वत कहते है। ज्योतिष शास्त्र में गुरु पर्वत बहुत ही शुभ फल देने वाले ग्रह माना जाता हैं। हस्तरेखा ज्योतिषशास्त्र के अनुसार यदि गुरु पर्वत में उभार के साथ-साथ अगर क्रॉस का निशान बनता है व्यक्ति के जीवन में भाग्य बहुत ही प्रबल होता है। ऐसे जातक को विवाह के बाद सबसे ज्यादा सफलता और तरक्की प्राप्त होती है।

  • हथेली पर शुक्र पर्वत अंगूठे के नीचे वाला हिस्सा कहलाता है। अगर किसी भी जातक की हथेली में शुक्र पर्वत उभार पर है तो व्यक्ति के जीवन में पैसों की कठिनाईयां नहीं आती हैं। उसे हर प्रकार की सुख सुविधा का आनंद प्राप्त करने का अवसर मिलता है।

  • हथेली पर सूर्य पर्वत रिंग फिंगर जिसे अनामिका उंगली भी कहते हैं, उसके नीचे बना हुआ होता है। हस्तरेखा ज्योतिष के अनुसार जिस जातक की हथेली में सूर्य पर्वत में उभर होता है उस जातक के जीवन में यश समृद्धि, नाम, सम्मान, पद आदि का कारक होता है। अगर सूर्य पर्वत में उभार होने के साथ एक रेखा निकलती हुई भाग्य रेखा के साथ जाकर मिले तो ऐसे लोगों को अचानक धन लाभ होता है।
  • जिस व्यक्ति की भाग्य रेखा जीवन से प्रारंभ हो, ऐसे व्यक्ति को अपने जीवन में धन से संबंधित परेशानियों का कभी सामना नहीं करना पड़ता है। ऐसे व्यक्तियों का आर्थिक पक्ष काफी मजबूत रहता है। इनका जीवन हमेशा धन-धान्य से परिपूर्ण रहता है।