हिंदू धर्म में नवरात्रि के त्योहार का विशेष महत्व है. इस बार चैत्र नवरात्र 13 अप्रैल से शुरू हो रहे हैं और 21 अप्रैल को इसका समापन होगा। नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा की जाती है। पूजा-अर्चना के साथ-साथ श्रद्धालु जन देवी को प्रसन्न करने के लिए व्रत भी रखते हैं।

आमतौर पर उपवास करना सेहत के लिए अच्छा माना जाता है पर नवरात्रि के नौ दिन के व्रत करने कि लिए कुछ नियम होते हैं। इसलिए सोच-सझकर ही नवरात्रि के व्रत रखने चाहिए। आइए जानते हैं कि किन लोगों को नवरात्रि के व्रत नहीं रखने चाहिए।

  • गर्भवती महिला को अपनी सेहत को ध्यान में रखकर ही व्रत करने चाहिए। प्रेग्नेंसी में बहुत सावधानियों की जरूरत होती है। इसलिए उपवास करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।
  • अगर कोई व्यक्ति किसी बीमारी से ग्रसित है तो उन्हें व्रत रखने की मनाही होती है। ऐसे व्यक्ति शरीर से बेहद कमजोर होते हैं। इसलिए व्रत रखने से शरीर में दुर्बलता बढ़ती है और बीमार होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • डायबिटीज के मरीजों को व्रत रखने से बचना चाहिए. ऐसे व्यक्तियों को व्रत रखने के लिए नवरात्र स्पेशल अपना डाइट चार्ट बनवा लेवा चाहिए। डायबिटीज के मरीज नवरात्र के दौरान अपनी डाइट में कम शु्गर और सॉल्ट युक्त फलाहार का प्रयोग करें. साथ ही आलू, मीठे फल और मीठे भोजन से परहेज करें।
  • अगर किसी व्यक्ति की सर्जरी हुई है या फिर दवाइयां चल रही हैं तो ऐसे लोगों को भी उपवास से बचना चाहिए। ऐसे व्यक्ति व्रत रखने से पहले डॉक्टर की सलाह लें। साथ उपवास के दौरान दवाई खाना बंद ना करें।