व्यक्ति के जीवन में वास्तु शास्त्र का विशेष महत्व होता है। भए ही आप मने या न माने मगर वास्तु दोष व्यक्ति के खुशहाल जीवन को समस्याओं से भर देता है। घर में रखी छोटी से बड़ी चीज तक वास्तु की अहम भूमिका होती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, व्यक्ति की हर अच्छी-बुरी गतिविधियों के लिए वास्तु जिम्मेदार होता है। आइए जानते हैं कि वास्तु के ऐसे नियम जिनका पालन करने से घर में सुख-समृद्धि का वास होता है।

  • वास्तु ज्ञान के अनुसार, कभी भी घर के मेन गेट या मुख्य द्वार के सामने कूड़ादान नहीं रखना चाहिए। ऐसा माना जाता है की घर के मुख्य द्वार पर कूड़ादान रखने से पड़ोसी आपके विरोधी भी बन सकते हैं।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार, सूर्यास्त के बाद किसी भी बाहरी व्यक्ति के मांगने पर दूध, दही या प्याज नहीं देना चाहिए। ऐसा करना अशुभ माना जाता है। ऐसा करने से घर की सुख-समृद्धि में रुकावट आती है।
  • अधिकतर लोग अपने घर की छत पर अनाज या बिस्तर धोते है। वास्तु शास्त्र में ऐसा करने की मनाही है। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से ससुराल पक्ष से रिश्तों में खटास आ सकती है। हालांकि, आप इन चीजों को छत पर सुखा सकते हैं।
  • फल खाना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। किन्तु बहुत से लोगों के घरों में फल खाने के बाद उसके छिलके कूड़ेदान में फेंक दिए जाते हैं। वास्तु के अनुसार फल खाने के बाद इसके छिलके कूड़ेदान में ना फेंके। ऐसा माना जाता है की फल के छिलकों को कूड़ेदान में फेंकने से आपके मित्रों के साथ आपके संबंधों में खटास है।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार, रात को सोते समय झूठे बर्तन नहीं रखने चाहिए। ऐसा करने से आर्थिक स्थिति खराब हो सकती है।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार, सोने से पहले बाथरूम में बाल्टी में पानी भरकर रख दें। ऐसा करने से घर से नकारात्मकता दूर होती है और जीवन में सफलता मिलती है।
  • माना जाता है कि गुरुवार के दिन पीले फल, पीले वस्त्र या पीली चीज का उपयोग करने से जीवन में सुख-समृद्धि का वास होता है।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार, गीले तौलिए का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से संतान का आपसे मन-मुटाव हो सकता है। इसलिए हमेशा सूखा और स्वच्छ तौलिया इस्तेमाल करें।
  • अक्सर त्योहार पर खीर खाना शुभ माना जाता है। लेकिन वास्तु के अनुसार, अगर चीनी की जगह पर मिश्री का इस्तेमाल कर खीर बनाकर परिवार सहित खीर खाया जाए, तो इससे धन लाभ के योग बनते हैं।